Wednesday, August 28, 2019

ek cup chai....

jab bhi chai ki chuskiya hongi kuch khatti kuch meethi baatien hongi tumko hum yaad aayenge.. jab bhi aayega gussa bewajah ki baato par Tumko hum yaad aayenge jab bhi koi baatien banayega kaam na karne ke hazaar bahane batayega har pal bus apni hi sunayega Tumko hum yaad aayenge. tum soochoge ki zindagi ek safar hai yaha to hazzaroo ki bheed' hai aaj nahi to kal Koi aur hoga mai bhi yahi kahta hoo ki kal koi aur hoga par jab bhi baat aayegi rullane walo me to naam mera hi pahla hoga bhool tum waise bhi jaouge humko par jab bhi akele me chai hogi to zehan me tumhare mai hi hoonga tum chao ya na chao tumko hum yaad aayenge.

Friday, August 2, 2019

kya baat

baat aankho se aankho me ho jaye
aur kisi ko khabar na ho paye to kya baat
tum hame dekhte raho ham tumhe
aur pyar parwan chadh jaye kya baat
dil ke samandar me sailaab umad jaye
aur hotho pe dilbar ka naam na aaye kya baat
pyar ka majmoon liye teri saanso ko
apni saanso me jajb kar loo kya baat ...
tum meri ho aur mai tumhara
ye tumhara dil samjh le aur hamara to kya baat...



Friday, March 15, 2019

उम्र  बीत गयी बोसा किये उन्हें 
दिल मुंतजिर है अब तो बस एक नज़र के लिये।

Sunday, January 24, 2016

ऐ जिंदगी तेरे मयख़ाने में

ऐ जिंदगी तेरे मयख़ाने में
जो थोड़ी सी मय बची हों
तो मुझको भी पिला दे
कब से खड़ा हूँ
पीने की चाह  में

जो ना प्याला हो
मेरे लिया और ना मिले कोई साकी
तो ऐसे ही पिला दे। ..

ऐ जिंदगी तेरे मयख़ाने में
जो थोड़ी सी मय बची हों
तो मुझको भी पिला दे। ...

क्या मोल दूँ तुझको इसका
की मेरी प्यास ही
इसकी बख्शीश है
सदियो से खड़ा हूँ
तेरे मयखाने केबाहर
की कभी तो मय का प्याला
मेरे होठों तक पहॅुचेगा
कभी तो मिटेगी मेरी जीवन प्यास

जाने कितने तेरे दर पे आये
आके चले गए
जाने कितने आएंगे

कुछ को दिया तूने
मए से भरा सोने का प्याला
और मिली यौवन छलकाती मधुबाला
और कुछ को मिला
टुटा फूटा मिटटी का प्याला
आधी अधूरी हाला

मुझको भी तो
पिला दे मधु का प्याला
ये जीवन हाला

ऐ जिंदगी तेरे मयख़ाने में
जो थोड़ी सी मय बची हों
तो मुझको भी पिला दे
कब से खड़ा हूँ
पीने की चाह  में


























Monday, September 28, 2015

मोहताज

बहुत देख ली मैंने जिंदगी यायावर
हर कोई मोहताज है किसी ना किसी का

Saturday, July 18, 2015

chalte chalte

aaj phir chalte chalte
raaste me jindagi mujhse takra gayi....
palat ke jab dekha maine usko...
kahne lagi ab kyu gumsuda hai tu...
jab bhi milta hai...
jaane kin khayaloo me uljha rahata hai....
mujhe ab bhi yaad hai
teri wo aakhri mulakat
teri wo fariyaad...
tune hi kaha tha naa
bus aakhri baar poori kar de meri muraad..
nahi to ho jaounga mai barbaad....
maine tab bhi tujhse kaha tha...
ki kuch nahi badlega...
tu jab bhi milega
bus yun hi jindagi ke taane baane me
uljha sa rahega...
aaj phir jab mila to
wahi shikan hai
wahi aarjoo hai ...
ye duniyavi masle hai...
in me naa ulajh
jo jaise chal raha hai
use waise hi chalne de...
jara soch tere chahne aur karne se
jo kuch hota .....
to tu aaj yu na uljha uljha rahta...

वक़्त तेरी शाख पर

वक़्त तेरी शाख पर
पत्ते तो कई है
रंग सबके अनेक
कोई बेढंगा कोई बेमेल
कोई सुन्दर सुडोल
दुनिया में लोग भी अनेक
सबकी अपनी ख्वाइश
अपने ही सपने
किसी को चैहिये
सुख का सागर
तो कोई दुःख के भवर
में ही चाहता है रहना
पर तेरी भी अजीब रीत है।
जिसे जो चाहिए वो
उसके नसीब में आता नही
जो चाहे कोई
तोडना पत्ते सुख के
तेरी डॉल से
तो उसे मिलता नहीं
कोई यू ही बैठा
रहे तो कहो
सबसे सुन्दर पत्ता
तेरी शाख खुद ही
उसकी झोली में
गिरा दे
क्या नियम है तेरा
दशक बीत गए
लगता है अब सादिया बीत जाएँगी
पर तेरा ये नियम
न समझ आएगा। .
क्यों हर किसी को
तेरे आगे गिड़गिड़ाना पड़ता है
तेरे दर पे घुटने टेकने
पढ़ते है। .
हां मै जानता हूँ
उसे भी जो तेरे
आगे नहीं टेकता घुटने
जिसके आगे तू
खड़ा रहता है
हाथ बांधे
मै भगवान की
नहीं करता बात
उस इंसान की
बात है जिसने
झुका रखा है
तुझे अपने आगे। ।
मै जानता हूँ
उसे हां मै जानता हूँ
बस सोचता हूँ
की फ़ायदा क्या
अगर उसने तुझे
झुका भी दिया तो। ।